Thursday, January 10, 2013


33 KAUTILYA’S   ‘ARTHASHAASTRA’

MadanMohan Tarun

video

Enmity with stronger

बलवान हीनेन निगृहणीयात्। न ज्यायसासमेन वा।
गजपादयुद्धमिवबलवद्विग्रहः।

अपने से कम बलवान से ही युद्ध करना चाहिए। अपने ही जैसे
बलवान से भी नहीं। अपने से बलवान से युद्ध करना ठीक वैसा ही है
जेसे कोई हाथी पर सवार योद्दा से पैदल युद्द करे।

One should fight only with those who are lesser in strength.
Not even with equals. Fighting with stronger means fighting
on foot with one who is sitting on the elephant.

(From ‘Kautilya’s ‘ARTHASHAASTRA’ by MadanMohan Tarun)

No comments:

Post a Comment