Tuesday, October 9, 2012

SUNAA TUMNE : Could you hear me ?


सुना तुमने

मदनमोहन तरुण

सुना तुमने !
सुना ?

आज मैं अपनी सारी प्रार्थनाएँ
वापिस ले रहा हूँ

वर्षों वर्षों मैंने घंटियाँ बजाईं
तेरी प्रशंसा के श्लोक पढे॰
कभी तुम्हारे चार हाथों
या हजार हाथों के गीत गढे॰
सर्वव्यापी और न जाने क्या - क्या कहा तुम्हें
तेरे अंग - अंग की तरीफ की
तेरी देवियों की सुन्दरता का बखान किया

ताकि तुम सुन सको हमारी पुकार

मगर ठीक तेरी आँखों के सामने
समय ने मुझे कितनी बार लहू -लुहान कर दिया

मगर तू नहीं आया , तो नहीं आया
न कोई आवाज ही दी
मुझे छोड॰ दिया
भूखे अस्त्रों के बीच घिरा
अकेला
निहत्था

जब तू सुनता ही नहीं
तब मैं तुझे क्यों पुकारूँ ?
क्यों बजाऊँ घंटियाँ ?
क्यों पढूँ मंत्र तेरी खुशामद के ?

आज मैं अपनी सारी प्रार्थनाएँ
वापिस ले रहा हूँ

सुना ?
सुना तुमने !
आज मैं अपनी सारी प्रार्थनाएँ
वापिस ले रहा हूँ

जा जा
तू सोता रह अपने शयनागार में
दबवाता रह लक्ष्मी से अपने पाँव
सुनता रह ब्रह्मा की ठकुरसुहातियाँ

मगर नहीं अब नहीं
अब मैं तुम्हारी प्रार्थना नहीं करूँगा

जब तू सुनता ही नहीं
तब मैं तुझे क्यों पुकारूँ ?
क्यों बजाऊं घंटियाँ ?
क्यों पढूँ मंत्र तेरी खुशामद के ?
आज मैं अपनी सारी प्रार्थनाएँ
वापिस ले रहा हूँ … 

कितनी उम्मीदों से मैंने तुम्हे कितनी बार पुकारा
दर्द से चीखा ,चिल्लाया
समय ने मेरा तमाशा बना दिया
मगर तू नहीं आया ,तो नहीं आया

न कभी बतलाया कि तुमने सुना,
 जब मैंने तुम्हें
अथाह पीडा॰ से आहत, अपमानित, अवमानित होकर
तुम्हें पुकारा
तब भी तू नहीं आया तो नहीं आया

जब तू सुनता ही नहीं
तब मैं तुझे क्यों पुकारूँ ?
क्यों बजाऊँ घंटियाँ ?
क्यों पढूँ मंत्र , तेरी खुशामद के ?

आज मैं अपनी सारी प्रार्थनाएँ
वापिस ले रहा हूँ

सुना ?
सुना तुमने !
आज मैं अपनी सारी प्रार्थनाएँ
वापिस ले रहा हूँ

video

No comments:

Post a Comment